09 March, 2016

Dil ki Baat

एक बात अनसुनी सी
सुनानी थी तुम्हें;
जो केह दोगे अनसुनी सी बात
तो हो तुम यार!

एक बात हैं अनकही सी
कहनी थी तुम्हें;
जो सुन लोगे अनकही सी बात
तो हो तुम दिलबर!!

कह के जो अनसुनी कर दोगे
तो हो तुम यार!
सुन के  जो अनकही कर दोगे
तो हो तुम दिलबर!!

कुछ  बात दिल की 
होती हैं ऐसी
जो रहती हैं अनकही सी !
जो रहती हैं अनसुनी सी!!

No comments:

Post a Comment

Your 1cents will be minted on my hall of fame, so go ahead and mark your place.


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...